Book review: Taare , banjaron ki chah me

“रुकना नहीं है हमें यहाँ.. चलते जाएं ये आसमां ले जाए जहाँ ।”  तारे, बंजारों की चाह में, कृतिका अग्रवाल द्वारा लिखित यह पुस्तक उनके विचारों और शायरियों का संग्रह है। कृतिका ने बखूभी अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोया है। यहाँ कवियत्री की लेखनी प्रशंसा योग्य है, उन्होंने सरल शब्दों को बेहद दिलचस्प रूप मेंContinue reading “Book review: Taare , banjaron ki chah me”

‘रावण आर्यावर्त का शत्रु’-इतिहास के सबसे बड़े खलनायक की कहानी, जिसका नाम रावण है

‘ “मैं रावण हूँ।मैं यह सब कुछ चाहता हूँ।मुझे ख्याति चाहिए।मुझे शक्ति चाहिए।मुझे संपत्ति चाहिए।मुझे पूर्ण विजय चाहिए।भले ही मेरा यश मेरे दुःख के साथ-साथ चले।” ‘रावण आर्यावर्त का शत्रु’, रामचंद्र श्रृंखला की तीसरी किताब है।इससे पूर्व लेखक अमीश ने हमारे सामने राम और सीता के जीवन को एक नए रूप से पेश किया जोContinue reading “‘रावण आर्यावर्त का शत्रु’-इतिहास के सबसे बड़े खलनायक की कहानी, जिसका नाम रावण है”